पाकिस्तान नहीं झेल सकता लंबा लॉकडाउन, कोरोना के साथ जीना होगा : इमरान खान

0
28

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने शनिवार को कहा कि कोरोना वायरस की वजह से लगाए गए लॉकडाउन के चलते 150 मिलियन से ज्यादा पाकिस्तानी प्रभावित हुए हैं. इसके साथ ही उन्होंने पाकिस्तान के प्रांतों की सरकारों से सार्वजनिक परिवहन को फिर से शुरू करने की अनुमति देने का आग्रह किया है. इमरान खान ने एक बार फिर यह बात दोहराई कि पाकिस्तान अनिश्चितकालीन की बंदी का सामना नहीं कर सकता है.

कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए उठाए गए कदमों के बारे में जानकारी देने के लिए अपनी कोर टीम के साथ मीडिया को संबोधित करते हुए इमरान खान ने कहा कि पाकिस्तान अमेरिका, यूरोप और चीन की तरह लॉकडाउन लागू नहीं कर सकता है. उन्होंने कहा कि पहले ही लॉकडाउन ने देश में आर्थिक स्थिति को बुरी तरह प्रभावित किया है, विशेष रूप से कमजोर वर्ग को, जिनमें 25 मिलियन लोग शामिल थे जो दैनिक या साप्ताहिक मजदूरी पर रहते थे.

इमरान खान ने कहा, “लगभग 150 मिलियन लोग कोरोनो वायरस और लॉकडाउन के कारण आर्थिक रूप से परेशान हैं.” यहां आपको बता दें कि पाकिस्तान की कुल आबादी लगभग 220 मिलियन है. इसके साथ ही खान ने सार्वजनिक परिवहन को फिर से शुरू करने की गुहार लगाई क्योंकि इसका निलंबन “गरीब लोगों को मार रहा है”.

इमरान खान ने कहा कि वायरस कुछ समय तक “हमारे साथ” रहेगा जब तक कि इसके खिलाफ एक टीका विकसित नहीं कर लिया जाता है. उन्होंने आगे कहा, “लेकिन हम इसे अनिवार्य दिशानिर्देशों का पालन करके निपटा सकते हैं.”

इस दौरान इमरान खान ने कहा कि पाकिस्तान पहले से अनुमानित कोरोना वायरस के आंकड़ों से बेहतर स्थिति में है. उन्होंने कहा, “मामलों की संख्या में वृद्धि जारी रहेगी, लेकिन सौभाग्य से, हमारी वर्तमान संख्या अनुमानित मामलों की संख्या से कम है जो कि 52,000 थी.” उन्होंने कहा कि शुक्रवार को पाकिस्तान में कोरोनो वायरस के मामलों की संख्या बढ़कर 38,292 हो गई जबकि मरने वालों की संख्या बढ़कर 821 हो गई.

इमरान ने आगे कहा, “अभी संख्या बढ़ने की उम्मीद है और हम इसके लिए तैयार हैं. सरकार अपनी स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाने और क्षमता बढ़ाने की दिशा में काम कर रही है. हम अभी भी अन्य देशों की तुलना में बेहतर हैं और किसी भी कठिन परिदृश्य से निपटने के उपाय कर रहे हैं. वायरस से अब तक कुल 10,155 मरीज ठीक हो चुके हैं

इमरान खान ने यह भी कहा कि कोरोना वायरस पर ध्यान केंद्रित करने के कारण, अन्य बीमारियों की उपेक्षा की जा रही थी और बच्चों के टीकाकरण में 50 प्रतिशत की कमी आई और दो पोलियो-विरोधी अभियान छूट गए. इमरान ने आगे कहा, “जब तक हम कोरोनो वायरस महामारी से निपट रहे हैं, उस दौरान उन्हें अनदेखा नहीं किया जा सकता है.”

इमरान खान ने चेतावनी दी कि उन क्षेत्रों में लॉकडाउन को फिर से लागू किया जा सकता है जहां संक्रमण की संख्या तेजी से बढ़ती हुई नजर आएगी. इसके साथ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने प्रांतों से सार्वजनिक परिवहन को फिर से खोलने की अपील भी की है. इमरान ने जोर देकर कहा कि सार्वजनिक परिवहन के निलंबित होने के कारण आम आदमी परेशान हो रहा था.

इसके साथ ही इमरान खान ने दोहराया कि कम आय वाले समूहों की सुविधा और आर्थिक गतिविधियों को शुरू करने के लिए लॉकडाउन में ढील दी गई है. बता दें कि पाकिस्तान सरकार ने पिछले सप्ताह कहा था कि वह अर्थव्यवस्था पर इसके प्रभाव के कारण लॉकडाउन को चरणबद्ध तरीके से हटाने की शुरुआत करेगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here