म्यांमार में फिर सेना और नागरिकों के बीच छिड़ी हिंसा, सैकड़ों लोग भागकर मिजोरम में हुए दाखिल

0
1731

म्‍यांमार में सेना और नागरिकों में बढ़ते संघर्ष के बीच 100 से अधिक नागरिक बॉर्डर से सटे भारतीय राज्‍य मिजोरम में दाखिल हुए हैं। इस पर मिजोरम के गृह मंत्री लाल चमलियाना ने कहा क‍ि अभी सटीक आंकड़े तो नहीं मिले हैं, किन्तु राज्‍य के दो जिलों में म्‍यांमार के नागरिक आए हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, गृह मंत्री ने कहा कि बीते कुछ दिनों में म्‍यांमार से सैकड़ों नागरिक भारतीय सूबे मिजोरम में घुसे हैं। किन्तु म्‍यांमार से मिजोरम आने वाले लोगों का सटीक आंकड़ा ज्ञात नहीं है, क्‍योंकि मैं इस वक़्त क्‍वारंटाइन में हूं।

म्यांमार में सैनिकों और सशस्‍त्र नागरिकों के बीच फिर छिड़ी जंग, 100 से  ज्‍यादा नागरिक भागकर पहुंचे मिजोरम | Over 100 Myanmar nationals enter  Mizoram after military armed ...

बता दें क‍ि मिजोरम बॉर्डर से लगे म्‍यांमार के क्षेत्रों में सेना और सशस्‍त्र नागरिकों के बीच फिर संघर्ष शुरू हो गया है। हिंसा से बचकर कुछ नागरिक मिजोरम भाग आए हैं। इस साल मार्च से ही म्‍यांमार में सेना और नागरिकों के बीच संघर्ष चल रहा है। जिसके चलते अब तक हजारों की तादाद में आम नागरिक भागकर मिजोरम में आ चुके हैं। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, म्‍यांमार के करीब 10 हजार लोग मिजोरम में रह रहे हैं।

बॉर्डर पार करके भारत में घुस आए म्यांमार के चार पुलिस ऑफिसर, शरण देने की कर  रहे मांग | Four myanmar police officers crossed india seeking refuge  mizoram | TV9 Bharatvarsh

अधिकारियों ने बताया कि म्यांमार के अधिकतर नागरिकों को मानवीय आधार पर स्थानीय संगठनों और व्यक्तियों ने अस्थायी आश्रय और भोजन उपलब्ध कराया है, जबकि अन्य अपने रिश्तेदारों के साथ रह रहे हैं। उन्होंने बताया कि म्यांमार के अधिकांश नागरिक गैर सरकारी संगठनों द्वारा स्थापित अस्थायी आश्रयों में रहते हैं। बता दें कि म्यांमार में एक बार फिर सरकारी सैनिकों और रेजिस्टेंस फोर्स के बीच जंग शुरू हो गई है। एक ग्रामीण और स्वतंत्र मीडिया रिपोर्ट्स में शुक्रवार को बताया गया है कि सरकारी सैनिकों और रेजिस्टेंस फोर्स के बीच जुलाई के बाद से सबसे खतरनाक जंग हुई है। इस लड़ाई में कई किशोरों समेत पंद्रह से 20 ग्रामीण मारे गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here