गुलकंद पेट से जुड़ी कई समस्‍याओं को दूर करता है जाने इसके फायदे

0
1793

पान के ज़रिए गुलकंद का सेवन तो आपने कई बार किया होगा लेकिन अपने स्वास्थ्य और सौंदर्य को बरकरार रखने के लिए क्या आपने कभी गुलकंद का सेवन किया है ? अगर नहीं, तो अपने स्वास्थ्य और सौंदर्य को बेहतर बनाने के लिए गर्मी के इस मौसम में आप गुलकंद का सेवन कर सकते हैं. गुलकंद में  एंटीऑक्सीडेंट गुण के साथ ही विटामिन सी, बी और ई अच्छी मात्रा में पाए जाते हैं. यह शरीर को ठंडक पहुंचाता है, साथ ही इसके सेवन से कई तरह की स्वास्थ्य सम्बन्धी दिक्कतों को दूर किया जा सकता है. इतना ही नहीं इसका सेवन सौंदर्य को संवारने में भी काफी मदद करता है. आइए जानते हैं कि गुलकंद का सेवन किस तरह से शरीर फायदा पहुंचाता है और इसको तैयार करने की विधि (Recipe) और खाने का तरीका क्या है.

स्वास्थ्य के लिए गुलकंद के फायदे

गुलकंद के सेवन से पेट में होने वाली जलन, गैस, अपच, दर्द और कब्ज से निजात मिलती है.

गुलकंद का सेवन आंखों की रोशनी बढ़ाने में मदद करता है. इसके सेवन से आंखों में जलन की समस्या भी कम होती है और कंजंक्टिवाइटिस में भी आराम मिलता है.
गुलकंद खाने से मुंह में होने वाले छालों को कम करने में मदद मिलती है, साथ ही छालों की वजह से मुंह में जलन और दर्द भी कम होता है.

गुलकंद के सेवन से नाक से खून आने की दिक्कत में आराम मिलता है.

गुलकंद का सेवन करने से मांसपेशियों में दर्द और थकान की दिक्कत को भी कम किया जा सकता है.

मानसिक तनाव को कम करने में भी गुलकंद का सेवन फायदा करता है.

सौंदर्य के लिए गुलकंद के फायदे

गुलकंद के सेवन से स्किन हाइड्रेट रहती है. त्वचा में नमी होने की वजह से ये बेजान होने से बचती है.

गुलकंद का सेवन करने से चेहरे पर मुंहासे होने की दिक्कत कम होती है.

गुलकंद का सेवन शरीर में अतिरिक्त गर्मी के असर को कम करता जिससे सनबर्न की दिक्कत से निजात मिलती है.

गुलकंद का सेवन करने से चेहरे की चमक बढ़ती है और त्वचा में कसाव आता है.

ऐसे तैयार करे गुलकंद

गुलकंद बनाने के लिए 250 ग्राम देसी गुलाब के फूल लें और इनकी पंखुड़ियों को डंठल से अलग कर लें. पंखुड़ियों को अच्छी तरह से धो लें और इसका पानी सुखा लें. जब इनका पानी सूख जाए तो इन पंखुड़ियों को किसी कांच के बर्तन में रखें. जितना मीठा खाना आप पसंद करते हैं उसके हिसाब से इसमें पिसी हुई मिश्री या चीनी डालें. (अगर आप चाहें तो इसके लिए शुगर फ्री चीनी का इस्तेमाल भी कर सकते हैं) इसके साथ ही इसमें एक छोटा चम्मच पिसी हुई हरी इलायची डालें और एक छोटा चम्मच पिसी हुई सौंफ भी मिलाएं. इन सब को अच्छी तरह से मिक्स करें और बर्तन को ढक्कन से कवर कर दें. इसको 8 से 10 दिन के लिए धूप में रख दें और बीच-बीच में इसको सूखे चम्मच से चलाते रहें. कुछ दिनों में मिश्री या चीनी पानी छोड़ देगी, जिसमें गुलाब की पंखुड़ियां गलने लगेंगी. ध्यान रहे कि इसमें अलग से पानी नहीं डालना है. जब यह पंखुड़ियां पूरी तरह से गल जाएं तो इसका मतलब है कि गुलकंद तैयार हो गया है और आप इसका सेवन शुरू कर सकते हैं.

इस तरह से करें गुलकंद का सेवन

गुलकंद का सेवन गर्मी के दिनों में दूध या पानी के साथ रोजाना किया जा सकता है. अगर आप चाहें तो इसका सेवन पान में रखकर भी कर सकते हैं. इसका सेवन बच्चे 2 से 3 ग्राम तक, वयस्क 5 से 10 ग्राम तक और बुजुर्ग 5 ग्राम तक रोज़ाना कर सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here