अगले साल से महंगा हो सकता है फोन पर बात करना, 20% तक बढ़ सकते हैं दाम

0
203

वोडाफोन आइडिया अगले साल 2021 से अपने टैरिफ कीमतों में 15-20 फीसदी बढ़ोतरी करने की तैयारी में है। कंपनी को अभी काफी नुकसान हो रहा है, ऐसे में कंपनी अपने नुकसान को कवर अप करने के लिए टैरिफ की कीमतें बढ़ा सकती हैं। भारती एयरटेल भी वोडाफोन-आइडिया की तरह टैरिफ के दाम बढ़ा सकती है। इन दोनों की कंपनियों की अपने प्रतिद्वंद्वी रिलायंस पर खास नजर रहेगी और उसी के अनुसार बाकी कंपनियां भी टैरिफ के दाम में बदलाव करेंगी। ये जानकारी मामले से जुड़े दो लोगों ने दी है।

पहले दिसंबर 2019 में बढ़े थे दाम : एक शख्स ने बताया कि अभी टेलीकॉम कंपनियां रेगुलेटर की तरफ से फ्लोर प्राइस फिक्स करने का इंतजार करेंगे। वैसे तो बात ये हो रही है कि कंपनियां करीब 25 फीसदी तक टैरिफ के दाम बढ़ा सकती हैं लेकिन एक ही बार में इतनी बढ़ोतरी करना काफी मुश्किल है। इससे पहले देश की इन तीन बड़ी टेलीकॉम कंपनियों ने दिसंबर 2019 में टैरिफ की दरें बढ़ाई थीं। 2016 में रिलायंस जियो की एंट्री के बाद ये पहली बार था जब टेलीकॉम कंपनियों ने दाम बढ़ाए थे।

कितना कमा रही हैं ये कंपनियां : वोडाफोन-आइडिया के एमडी रविंदर टक्कर भी कह चुके हैं कि अभी जो दाम हैं वह टिकने वाले नहीं हैं और दाम बढ़ेंगे। उन्हें ये भी उम्मीद है कि बाकी कॉम्पटीटर्स भी दाम बढ़ाएंगे। टक्कर ने दूसरी तिमाही के नतीजों के बाद ही कह दिया था कि डेटा के लिए फ्लोर प्राइस के फैसले का इंतजार नहीं किया जा सकता है और टैरिफ के दाम बढ़ेंगे। उन्होंने ये भी कहा कि ये ध्यान रखना होगा कि कीमतें बढ़ाने का वक्त सही हो। वह बोले कि ये तय समझिए कि जल्द ही टैरिफ रेट बढ़ेंगे। अभी वोडाफोन प्रति यूजर 119 रुपए, एयरटेल 162 रुपए और रिलायंस जियो 145 रुपए प्रति यूजर के हिसाब से कमाई कर रहे हैं।

विशेषज्ञों के कहना है कि वोडाफोन के लिए अब टैरिफ के दाम बढ़ाना बहुत जरूरी है, क्योंकि जल्द ही उसे एजीआर की किस्त का भुगतान करना है। साथ ही वोडाफोन 4जी नेटवर्क को मजबूत करने के लिए भी निवेश करना चाहती है, जिसके लिए फंड की जरूरत होगी। हालांकि, वोडाफोन को ये भी डर है कि अगर उसके टैरिफ बढ़ाने के बाद एयरटेल और रिलायंस जियो ने भी वैसा नहीं किया तो कंपनी के मौजूदा ग्राहक छिटक सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here