गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल का 92 साल की उम्र में हार्ट अटैक से निधन, PM ने जताया शोक

0
193

गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है. केशुभाई पटेल दो बार गुजरात के मुख्यमंत्री रहे हैं. कुछ दिन पहले ही वह कोरोना वायरस से संक्रमित हुए थे. उन्होंने अहमदाबाद के स्टर्लिंग अस्पताल में अंतिम सांस ली.

Keshubhai Patel, Former Chief Minister of Gujarat, passes away at the age of 92. He was admitted at a hospital in Ahmedabad. (File pic) pic.twitter.com/RZu4cMmLDp

— ANI (@ANI) October 29, 2020

डॉक्टरों के मुताबिक केशुभाई को सुबह सांस लेने में तकलीफ हुई. इसके बाद उनकी हालत बिगड़ती गई. कुछ वक्त पहले ही केशुभाई पटेल कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए गए थे. केशुभाई पटेल के परिवार के मुताबिक, कोरोना वायरस संक्रमण से ठीक होने के बाद भी उनकी तबीयत लगातार बिगड़ती जा रही थी. आज (गुरुवार) जब उन्हें दोबारा अस्पताल ले जाया गया तो उन्होंने कोई रिस्पॉन्ड नहीं किया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल के निधन पर दुख जताया है. पीएम ने कहा कि केशुभाई ने मेरे सहित कई छोटे कार्यकर्ताओं को तैयार किया था. सभी को उसका मिलनसार स्वभाव पसंद था. उनका निधन एक अपूरणीय क्षति है. हम सभी आज शोक मना रहे हैं.

हम सभी के प्रिय, श्रद्धेय केशुभाई पटेल जी के निधन से मैं दुखी हूं, स्तब्ध हूं। https://t.co/kWCDdWmyOR

— Narendra Modi (@narendramodi) October 29, 2020

पीएम मोदी ट्वीट किया, ‘हमारे प्यारे और सम्मानित केशुभाई का निधन हो गया है.. मैं बेहद दुखी हूं. वह एक उत्कृष्ट नेता थे जिन्होंने समाज के हर वर्ग की देखभाल की. उनका जीवन गुजरात की प्रगति और हर गुजराती के सशक्तिकरण के लिए समर्पित था.’ एक अन्य ट्वीट में पीएम मोदी ने लिखा, ‘केशुभाई ने जनसंघ और भाजपा को मजबूत करने के लिए गुजरात के हर इलाके में यात्रा की. उन्होंने आपातकाल का विरोध किया. किसान कल्याण के मुद्दे उनके दिल के सबसे करीब थे. विधायक, सांसद, मंत्री या सीएम के रूप में रहते हुए उन्होंने किसानों के हित में कई कदम उठाए.’

Our beloved and respected Keshubhai has passed away…I am deeply pained and saddened. He was an outstanding leader who cared for every section of society. His life was devoted towards the progress of Gujarat and the empowerment of every Gujarati. pic.twitter.com/pmahHWetIX

— Narendra Modi (@narendramodi) October 29, 2020

Keshubhai travelled across the length and breadth of Gujarat to strengthen the Jana Sangh and BJP. He resisted the Emergency tooth and nail. Issues of farmer welfare were closest to his heart. Be it as MLA, MP, Minister or CM, he ensured many farmer friendly measures were passed. pic.twitter.com/qvXxG0uHvo

— Narendra Modi (@narendramodi) October 29, 2020

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भी केशुभाई पटेल को श्रद्धांजलि दी.

गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल जी को मेरी भावभीनी श्रद्धांजलि। गुजरात की प्रगति में और प्रदेश में भाजपा संगठन को मजबूत करने में केशुभाई का योगदान हमेशा याद रखा जायेगा। ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें। ॐ शांति

— Nitin Gadkari (@nitin_gadkari) October 29, 2020

केशुभाई पटेल का जन्म गुजरात के जूनागढ़ में 24 जुलाई 1928 को हुआ था. वह शुरुआत से ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS)  में सक्रिय रहे. वह लंबे समय तक संघ के प्रचारक भी रहे. बाद में वह जनसंघ और फिर बीजेपी के साथ जुड़ गए. केशुभाई पटेल 1995 और 1998 में दो बार गुजरात के मुख्यमंत्री बने. 2001 में जब उन्होंने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया तभी नरेंद्र मोदी पहली बार गुजरात के मुख्यमंत्री बने थे.

केशुभाई पटेल गुजरात में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के दिग्गज नेता रहे हैं. गुजरात में उन्होंने पार्टी को गांव से लेकर शहर तक खड़ा किया. जनसंघ के समय से ही काडर तैयार करने में जुटे रहे. फलस्वरूप वह गुजरात मेंभाजपा के पहले मुख्यमंत्री बने. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केशुभाई पटेले को बेहद मानते. वह केशुभाई पटेल को गुरु दर्जा देते रहे. बाद में भाजपा से अनबन होने पर केशुभाई पटेल ने 2012 में अपनी नई पार्टी भी बनाई थी लेकिन भाजपा और संघ के विचारों से ज्यादा दिन वह अलग नहीं रह पाए जल्द ही अपनी पार्टी का विलय भाजपा में कर दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here