लव जेहाद: कार में नहीं बैठने पर मुस्लिम युवक ने की हिन्दू लड़की की हत्या, मची सनसनी

0
358

हरियाण के फरीदाबाद जिले के बल्लभगढ़ शहर की छात्रा निकिता तोमर(21) की हत्या के आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर आज अदालत में पेश किया जहां से उन्हें दो दिन के रिमांड पर भेजने के आदेश दिये गये। गिरफ्तार मुख्‍य आरोपी की शिनाख्त गुरूग्राम जिले में साेहना के कबीर नगर निवासी तौसीफ और दूसरे की मेवात जिले के रीवासन निवासी रेहान के रूप में हुई है। रेहान को पुलिस ने उसके गांव से गिरफ्तार किया। तौसीफ ने सोमवार शाम दिन दहाड़े निकिता की उस समय गोली मार कर हत्या कर दी थी जब वह अग्रवाल कॉलेज से पेपर देकर बाहर निकली थी। तौसीफ कॉलेज के बाहर अपने साथी रेहान के साथ कार में निकिता के बाहर निकलने का इंतज़ार कर रहा था। जैसे ही निकिता कॉलेज से बाहर निकली तो उसने उसे पिस्तौल दिखा कर उसका अपहरण करने और कार में बिठाने का प्रयास किया लेकिन जब वह इसमें नाकाम रहा तो उसने उसे गोली मार दी। गोली लगते ही निकिता जमीन पर गिर गई और उसकी मौके पर ही मौत हो गई। इस दौरान निकिता की सहयोगी ने उसे बचाने का प्रयास किया लेकिन वह भी इसमें कामयाब नहीं हो सकी। निकिता बी. कॉम अंतिम वर्ष की छात्रा थी। वारदात के बाद आरोपी फरार हो गये। यह पूरी घटना पास के ही एक सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई।

 

इस बीच मंगलवार को मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है और इनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। वहीं राज्य के गृह मंत्री अनिल विज ने भी घटना में शामिल दोनों आरोपियों के गिरफ्तार किये जाने की पुष्टि करते हुये कहा कि इस वारदात में इस्तेमाल हथियार भी बरामद कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि पीड़ित परिवार की मांग पर इस मामले की जांच के लिये एसीपी क्राइम अनिल कुमार की अध्यक्षता में एसआईटी गठित की गई है। सरकार का प्रयास होगा कि मामले की जल्दी जांच करा कर पीड़ित परिवार को इंसाफ दिलाया जाए।

उधर परिजनों का कहना है कि तौसीफ वर्ष 2018 में भी निकिता का अपहरण कर अपने घर ले गया था। वह उसे मुस्लिम बना कर उससे शादी करने का लगातार दबाव बना रहा था। उस वक्त भी पुलिस में आरोपी की शिकायत की गई थी। लेकिन तौसीफ के परिजनों माफी मांगने, समाज के लोगों के बीच में पड़ने और लोकलाज के चलते दोनों पक्षों में समझौता हो गया था। लेकिन तौसीफ ने उस घटना के दो वर्ष बाद फिर से निकिता को परेशान करने और उस पर मुस्लिम धर्म अपनाने और शादी करने का दबाव बनाने लगा था लेकिन निकिता ने ऐसा करने से इनकार कर दिया था।

इस बीच गुस्साये परिजनों, सम्बंधियों और शहर के लोगों ने आज रोष मार्च निकाला और सड़क पर धरना दिया। वे प्रशासन से इस मामले में एसआईटी गठित करने, फास्टट्रैक अदालत में सुनवाई कर आरोपियों को जल्द सज़ा सुनिश्चित करने और पीड़ित परिवार को सुरक्षा देने की मांग कर रहे थे। प्रशासन द्वारा उनकी मांगें माने के बाद ही वे अपना धरना समाप्त करने और सड़क खाली करने को राजी हुए।

पुलिस आयुक्त ओ.पी. सिंह ने बताया कि आरोपियों के खिलाफ थाना शहर बल्लभगढ़ में हत्या का मामला दर्ज किया गया है। मामला संज्ञान में आने पर उन्होंने क्राइम ब्रांच की 10 टीमों को जल्द से जल्द आरोपियों को गिरफ्तार करने के निर्देश दिए थे। जिसके बाद क्राइम ब्रांच की टीम द्वारा फरीदाबाद से पलवल और मेवात तक चलाए गए पांच घंटे के दौरान दोनों आरोपियों को धर दबोचा। उन्होंने बताया कि तौसीफ वारदात के बाद मेवात(नूहं) चला गया था। उस पर वर्ष 2018 में भी इसी लड़की को अपने साथ ले जाने को लेकर शहर थाना बल्लभगढ़ में मामला दर्ज किया गया था। तौसीफ फिजियोथैरापिस्ट का कोर्स कर रहा है और तीसरे वर्ष का छात्र है। श्री सिंह ने बताया कि आरोपियों के खिलाफ पुलिस के पास अनेक पुख्ता सबूत हैं और अदालत में इनके आधार पर मजबूत पैरवी कर आरोपियों को कठोरतम सजा सुनिश्चित की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here