महज 12 साल की उम्र में ही पूरी हो गई यह इच्छा, बच्चे के हाथ लगा 7 करोड़ साल पुराना अनमोल ‘खजाना’

0
481

जीवाश्म विज्ञानी बनने की इच्छा रखने वाली एक लड़के ने सिर्फ 12 साल की उम्र में अपना सपना पूरा कर लिया है। दरअसल कनाडा में रहने वाले इस बच्चे के हाथ 7 करोड़ साल पुराना बेहद अनमोल ‘खजाना’ हाथ लगा है। नाथन ह्रस्किन नाम का ये बच्चा अपने पिता के साथ गर्मियों की छुट्टी में पैदल यात्रा पर निकला था। इसी दौरान उसने 6 करोड़ 90 लाख साल पुराने डायनासोर का अवशेष ढूढ़ निकाला।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक नाथन और उनके पिता डियान संरक्षण स्‍थल हॉर्सशू केनयॉन गए थे जो कनाडा के अल्‍बार्टा में है। इसी दौरान नाथन ह्रस्किन ने आंशिक रूप से बाहर निकले डायनासोर के जीवाश्‍म को देखा। नाथन ने कहा, ‘यह बहुत ही रोचक खोज है। यह एक असली डायनासोर खोजने के जैसे है। इसे खोज निकालना मेरा सपना था।’ विशेषज्ञों का कहना है कि नाथन की यह खोज बेहद अहम है।

नाथन अभी अपने स्‍कूल में पढ़ाई कर रहे हैं। उन्‍होंने ज‍िस डायनासोर की पहचान की है, वह हैड्रोसॉरस प्रजाति का है जो 6 करोड़ 90 लाख साल पहले पृथ्‍वी पर पाया जाता था। इससे पहले की यात्रा में नाथन और उनके पिता को हड्डियां मिली थीं। डियॉन ने बताया कि यात्रा के दौरान हमने खाना खाया और उसके बाद नाथन आसपास का नजारा देखने के लिए एक पहाड़ी पर चढ़ गया। वहीं पर उसे यह जीवाश्‍म दिखा।

डायनासोर के मुख्य प्रकार,प्रजाति - Main types of Dinosaurs and History -  Alone World

नाथन ने बताया कि जीवाश्‍म बहुत स्‍वाभाविक नजर आ रहा था और यह कुछ उसी तरह से था जैसे टीवी शो में दिखाते हैं। उन्‍होंने इस जीवाश्‍म की तस्‍वीर को रॉयल ट्रेयल म्‍यूजियम को भेजा जिसने इसकी जीवाश्‍म के रूप में पहचान की। म्‍यूजियम ने अपनी एक टीम वहां पर भेजी। हैड्रोसॉरस प्रजाति के डायनासोर अक्‍सर इस इलाके में मिलते रहते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here