लोगों की सोच और विश्व बाजार में भारत तेजी से बदल रहा है : PM मोदी

0
137
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज कहा कि लोगों की सोच और बाजार में भारत तेजी से बदल रहा है और यहां हर किसी के लिए अवसरों की कोई कमी नहीं है। मोदी ने कनाडा में इन्वेस्ट इंडिया सम्मेलन को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित करते हुए कहा कि भारत दुनिया के लिए फार्मेसी की भूमिका निभा रहा है। हमने अब तक करीब डेढ़ सौ देशों को दवाएं उपलब्ध करायी हैं। उन्होंने कहा कि कोविड पश्चात विश्व में विभिन्न प्रकार की समस्याओं के बारे में बातें हो रहीं हैं।
विनिर्माण की समस्या, आपूर्ति शृंखला की समस्याएं, पीपीई आदि की समस्याएं। हालांकि भारत ने इन्हें समस्याएं नहीं रहने दिया। हमने इनका सामना किया और सबका समाधान पेश किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ने शिक्षा, श्रम और कृषि क्षेत्र में आमूलचूल सुधार किये जिनका हर भारतीय पर प्रभाव पड़ा है। उन्होंने कहा कि भारत ने श्रम एवं कृषि क्षेत्रों में सुधार सुनिश्चित किये। इससे निजी क्षेत्र की भागीदारी सुनिश्चित हुई तथा सरकार की सुरक्षाचक्र भी मजबूत हुआ।
इन सुधारों से उद्यमियों एवं मेहनतकश लोगों, दोनों को लाभ हुआ है।  उन्होंने कहा कि भारत ने कोविड महामारी के कारण उत्पन्न चुनौतियों को अनूठे अंदाज में लिया। हमने गरीबों एवं छोटे कारोबारियों के लिए राहत एवं पुनर्वास पैकेज दिया। हमने इस अवसर का ढांचागत सुधारों के लिए लाभ उठाया। ये सुधार अधिक उत्पादकता एवं समृद्धि दोनों सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने कहा कि आज भारत ने कंपनी कानून में विनियमन विहीन, अपराधीकरण मुक्त वातावरण की यात्रा आरंभ की है।
इस वर्ष मार्च से जून के बीच भारत का कृषि निर्यात 23 प्रतिशत बढ़ा जबकि सारा देश कठोर लॉकडाउन में था। उन्होंने कहा, ‘‘हमने अपनी ताकत दिखायी और समाधान की धरती के रूप में उभरे। यहां सम्मेलन में मौजूद अधिकतर लोगों में एक बात समान है। इनमें वे लोग हैं जो निवेश के फैसले करते हैं।’’ उन्होंने कहा कि वह पूछना चाहते हैं कि वे किसी देश में निवेश करने से पहले क्या सोचते हैं। क्या उस देश में जीवंत लोकतंत्र है। क्या उस देश में राजनीतिक स्थिरता है।
क्या उस देश में निवेश एवं कारोबार के अनुकूल नीतियां हैं। क्या उस देश के पास कुशल प्रतिभासंपन्न श्रमबल है। इन सभी सवालों का एक निर्विवाद उत्तर है -भारत। इन्वेस्ट इंडिया सम्मेलन का आयोजन कनाडा के कारोबारियों को भारत में निवेश के अवसरों का परिदृश्य बताने के लिए किया गया था। इसमें बैंकों एवं बीमा कंपनियों, निवेश कोषों, विमानन, इलैक्ट्रॉनिक्स एवं विनिर्माण क्षेत्र की कंपनियों, परामर्श कंपनियों एवं विश्वविद्यालयों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here