लॉकडाउन में मुकेश अम्बानी ने हर घंटे कमाए 90 करोड़ रुपए, बने दुनिया के सबसे अमीर

0
95

भारत और एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी, जिन्होंने दुनिया के चौथे सबसे अमीर व्यक्ति बनने के लिए सिलिकॉन वैली के टेकन एलोन मस्क और अल्फाबेट के सह-संस्थापक सर्गेई ब्रिन और लैरी पेज को पीछे छोड़ दिया। आईआईएफएल वेल्थ हुरुन इंडिया रिच लिस्ट 2020 के अनुसार उन्होंने इस साल मार्च लॉकडाउन के बाद से हर घंटे 90 करोड़ रुपए कमाए हैं।

मुकेश अंबानी की निजी संपत्ति 2,77,700 करोड़ रुपए बढ़कर, 6,58,400 करोड़ हो गई, जिसके साथ रिलायंस इंडस्ट्रीज के एमडी और चेयरमैन ने लगातार नौवें साल सबसे अमीर भारतीय खिताब बरकरार रखा। कोरोनो वायरस महामारी की शुरुआत में, मुकेश अंबानी की संपत्ति 28% घटकर 3,50,000 करोड़ हो गई थी और फिर फेसबुक, गूगल समेत कई अन्य ग्लोबल कंपनियों के जियो और रिटेल में रणनीतिक निवेश की एक सीरीज से सिर्फ चार महीने में उनके वैल्यूशन में 85 प्रतिशत तक सुधार आया।

आईआईएफएल वेल्थ हुरुन इंडिया रिच लिस्ट 2020​

कोविड -19 लॉकडाउन के बावजूद, रिलायंस का मार्केट कैप 10 लाख करोड़ रुपए को पार कर गया और मुकेश अंबानी की संपत्ति में 73% की वृद्धि दर्ज हुई। हुरुन ने कहा कि मुकेश अंबानी ग्लोबल अमीरों की लिस्ट में टॉप 5 में शामिल होने वाले एकमात्र भारतीय हैं। मुकेश अंबानी की कुल संपत्ति, जो अब लिस्ट में अगले पांच की संयुक्त संपत्ति से बड़ी है, रिपोर्ट के अनुसार वह एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति और दुनिया का चौथा सबसे अमीर आदमी बना गए हैं।

अब, भारत के टॉप 5 अरबपति

मुकेश अंबानी
संपत्ति: 6,58,400 करोड़ रुपए
2019 के बाद से धन परिवर्तन: 73%
कंपनी: रिलायंस इंडस्ट्रीज

हिंदुजा ब्रदर्स
संपत्ति:  1,43,700 करोड़ रुपए
2019 से संपत्ति में परिवर्तन: -23%
कंपनी: हिंदुजा

शिव नादर और परिवार
संपत्ति:  1,41,700 करोड़ रुपए
2019 से संपत्ति में परिवर्तन: : 34%
कंपनी : एचसीएल

गौतम अडानी और परिवार
संपत्ति:  1,40,200 करोड़ रुपए
2019 के बाद से संपत्ति परिवर्तन: 48%
कंपनी: अडानी

अजीम प्रेमजी और परिवार
संपत्ति:  1,14,400 करोड़ रुपए
2019 के बाद से संपत्ति परिवर्तन: -2%
कंपनी: विप्रो

हुरुन इंडिया की लिस्ट भारत में इस साल 31 अगस्त तक भारत के 1,000 करोड़ या उससे अधिक की संपत्ति वाले सबसे अमीर व्यक्तियों का संकलन है। हुरुन इंडिया के 2020 एडिशन की लिस्ट में 828 भारतीय हैं। हुरुन इंडिया के एमडी और मुख्य शोधकर्ता अनस रहमान जुनैद ने कहा कि आईआईएफएल वेल्थ हुरन इंडिया रिच लिस्ट भारतीय अर्थव्यवस्था का एक बैरोमीटर है, जो हमें यह समझने में मदद करता है कि कौन से उद्योग ऊपर गए हैं, नए हैं या नीचे गए हैं। इन उद्यमियों की कहानियां भारत के आधुनिक व्यवसायों की कहानियां बताती हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here