कोरोना के गंभीर मरीजों की जान बचा सकती है ये दवा, स्टडी में हुआ खुलासा

0
453

कॉर्टिकोस्टेरॉइड दवाओं के साथ गंभीर रूप से बीमार कोरोना मरीजों का इलाज करने से मृत्यु का जोखिम 20 फीसदी कम हो जाता है। बुधवार को सात अंतरराष्ट्रीय ट्रायल का विश्लेषण करने पर ऐसे परिणाम मिले हैं जो कि विश्व स्वास्थ्य संगठन को भी इलाज के लिए इसकी सलाह देने के लिए प्रेरित करता है। यह विश्लेषण कम खुराक वाली हाइड्रोकार्टिसोन, डेक्सामेथासोन और मेथिलप्रेडिसोलोन के अलग-अलग ट्रायल से इकट्ठा किए गए डेटा में पाया गया कि स्टेरॉयड ऐसे कोरोना मरीजों के रिकवरी में सुधार करते हैं जो अस्पताल में गंभीर रूप से बीमार हैं।

शोधकर्ताओं ने एक बयान में कहा, “यह कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स के साथ इलाज के बाद जीवित रहने वाले मरीजों के लगभग 68 फीसदी के बराबर है।” WHO की क्लिनिकल केयर लीड, जेनेट डियाज ने कहा कि एजेंसी ने गंभीर और महत्वपूर्ण कोरोना मरीजों में स्टेरॉयड के इस्तेमाल के लिए “मजबूत सिफारिश” को शामिल करने के लिए अपनी सलाह को अपडेट किया है।

उन्होंने डब्ल्यूएचओ सोशल मीडिया लाइव इवेंट में बताया “सबूतों से पता चलता है कि अगर आप कॉर्टिकोस्टेरॉइड देते हैं तो प्रति 1,000 मरीजों में 87 कम मौतें हुईं। इन लोगों को जिंदा बचा लिया गया।” ब्रिटेन के ब्रिस्टल यूनिवर्सिटी में काम करने वाले चिकित्सा सांख्यिकी और महामारी विज्ञान के प्रोफेसर जोनाथन स्टर्न ने कहा, “स्टेरॉयड एक सस्ती और आसानी से उपलब्ध दवा है और हमारे विश्लेषण ने पुष्टि की है कि वो लोगों में कोविड-19 से सबसे अधिक प्रभावित होने वाली मौतों को कम करने में प्रभावी हैं।”

उन्होंने कहा कि ब्रिटेन, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, स्पेन और संयुक्त राज्य अमेरिका में शोधकर्ताओं द्वारा किए गए परीक्षणों में, लगातार एक संदेश दिया गया, जिसमें दिखाया गया कि ड्रग्स, उम्र या सेक्स या फिर या कितने समय तक रोगी बीमार रहा इसकी की परवाह किए बिना सबसे बीमार रोगियों में फायदेमंद थे।

अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन के जर्नल में प्रकाशित निष्कर्ष, परिणामों को सुदृढ़ करते हैं जिन्हें एक बड़ी सफलता के रूप में देखा गया और जून में घोषणा की गई, जब डेक्सामेथासोन गंभीर कोरोना मरीजों के बीच मृत्यु दर को कम करने में सक्षम होने वाली पहली दवा बन गई। डेक्सामेथासोन तब से कुछ देशों में कोरोना मरीजों का इलाज करने वाले गहन देखभाल वार्डों में व्यापक इस्तेमाल में है।

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में मेडिसिन और महामारी विज्ञान के एक प्रोफेसर मार्टिन लैंडरे, जो बुधवार को प्रकाशित किए गए विश्लेषण के एक प्रमुख भाग डेक्सामेथासोन परीक्षण पर काम कर रहे थे, उन्होंने कहा कि दुनिया भर के अस्पतालों में डॉक्टरों का कहना है कि जान बचाने के लिए दवाओं का इस्तेंमाल करने के लिए सुरक्षित रूप से स्विच किया जा सकता है। उन्होंने संवाददाताओं से कहा “ये परिणाम स्पष्ट हैं, और रोजाना अभ्यास में तुरंत प्रयोग करने योग्य हैं। कोविड -19 के साथ गंभीर रूप से बीमार मरीजों में, कम खुराक वाले कॉर्टिकोस्टेरॉइड मौत के जोखिम को काफी कम करते हैं।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here